Vijaya Capsules: फायदे और उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स

Vijaya Capsules के बारे में जानकारी

Vijaya Capsules को Vedi Herbal Private Limited द्वारा निर्मित किया गया है। इसका इस्तेमाल चिंता को कम करता है, भूख को उत्तेजित करने, नींद में सुधार करता है।

विजय कैप्सूल 100% शाकाहारी और रासायनिक मुक्त आयुर्वेदिक दवा है। यह हर्बल आहार पूरक और प्राकृतिक रूप से शरीर की देखभाल करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

विजय कैप्सूल की सामग्री | Vijaya Capsules Ingredients in Hindi

कैनाबिस सैटिवा (Cannabis sativa)

गाँजे के पौधे का वानस्पतिक नाम कैनाबिस सैटिवा (Cannabis sativa) है। आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों में इसका उपयोग हजारों वर्षों से दर्द को कम करने, मतली को नियंत्रित करने, भूख को उत्तेजित करने, मांसपेशियों को आराम देने, नींद में सुधार, चिंता को कम करने के लिए किया जाता है।

विजय कैप्सूल के फायदे | Vijaya Capsules health benefits in Hindi

चिंता और अवसाद को कम करता है,

नींद में सुधार करता है

दर्द और सूजन को कम करने

मांसपेशियों को आराम देने

भूख को उत्तेजित करने

विजय कैप्सूल के उपयोग | Vijaya Capsules uses in Hindi

इसका उपयोग दर्द और सूजन से राहत दिलाता है

एंटीसाइकोटिक प्रभाव है और इसका उपयोग सिज़ोफ्रेनिया के इलाज के लिए किया जाता है।

चिंता और अवसाद को कम करने के लिए उपयोग किया जाता है।

इसमें एंटीप्रोलिफेरेटिव / antiproliferative और प्रो-एपोप्टोटिक गुणों के कारण, यह कैंसर सेल प्रवास, आसंजन और आक्रमण को रोकता है।

इसके एंटीकॉन्वल्सेंट गुण के कारण, यह न्यूरोडीजेनेरेटिव विकार के लिए प्रभावी है।

विजय कैप्सूल की खुराक | Vijaya Capsules dosage in Hindi

1 – 2 कैप्सूल दिन में दो बार भोजन के बाद या चिकित्सक द्वारा निर्देशित।

विजय कैप्सूल के साइड इफेक्ट्स | Vijaya Capsules side effects in Hindi

विजय कैप्सूल पूरी तरह से आयुर्वेदिक है। इसका उचित मात्रा में सेवन करने से नुकसान होने का कोई खतरा नहीं होता। आपकी स्वस्थ स्थिति के मुताबिक आपको इसकी कितनी मात्रा लेनी है ये अपने डॉक्टर से सलाह ले।

कुछ रिपोर्ट किए गए दुष्प्रभावों में शुष्क मुँह, रक्तचाप में कमी, दिल की धड़कन में वृद्धि, प्रकाश की कमी शामिल हैं।

सावधानियां-

डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार ही इसकी खुराक का उपयोग करें।

इसका उपयोग न करें यदि आपको इसकी किसी भी सामग्री से एलर्जी है।

गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान इसका सेवन नहीं करना चाहिए है।

हृदय रोग: यह दिल की धड़कन बढ़ा सकता है, और रक्तचाप में उतार-चढ़ाव हो सकता है। दिल की बीमारियों से पीड़ित मरीजों को डॉक्टर के मार्गदर्शन के तहत इसे लेना चाहिए।

इसका सेवन करने के बाद किसी भी मशीन को ड्राइव या संचालित न करें।

धूप से दूर, ठंडी और सूखी जगह पर रखें।

बच्चों की पहुंच से दूर रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.