बवासीर (piles) की होम्योपैथिक दवा और उपयोग | Homeopathic medicine and uses of piles

बवासीर क्या है | What is piles in Hindi

पाइल्स, जिसे बवासीर के नाम से भी जाना जाता है। बवासीर में, गुदा (anus) के भीतरी और बाहरी मलाशय की नसों में सूजन होती है। यह गुदा के अंदर या बाहर मस्सा जैसी स्थिति पैदा करता है, जो कभी अंदर रहता है या कभी बाहर आता है।

बवासीर दो प्रकार के होते हैं –

खूनी बवासीर

बादी बवासीर

खूनी बवासीर में खून आता रहता है, लेकिन दर्द नहीं होता।

होम्योपैथी बवासीर के कारण को ठीक करके धीरे-धीरे बवासीर को भी ठीक करता है। होम्योपैथिक दवाएं बवासीर के मुख्य कारण कब्ज को कम करती हैं।

बेस्ट होम्योपैथिक मेडिसिन फॉर पाइल्स | Best Homeopathic Medicine for Piles in Hindi

बवासीर (पाइल्स ) के इलाज और उपचार में होम्योपैथिक दवाएं और इसके उपयोग बहुत फायदेमंद हैं।

पाइल्स, बवासीर के उपचार के लिए  सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक दवाएं-

Nux vomica 30 uses in Hindi | पाइल्स होम्योपैथिक मेडिसिन नाम

सुस्त जीवन शैली वाले लोग जो अतिरिक्त चाय, कॉफी पीते हैं। ऐसे लोगों को कब्ज होने का खतरा होता है और उन्हें शराब पीने की आदत भी होती है। यह कब्ज से होने वाली बवासीर को दूर करती है।

मल के साथ खून आना, और जलन होना, यदि रात में गुदा क्षेत्र में खुजली बढ़ जाती है

सेवन – भोजन के बाद दिन में 3 बार 2/3 बूंद पानी के साथ लें।

सल्फर (Sulphur 30 ) uses in Hindi

बाहरी और आंतरिक दोनों प्रकार के बवासीर के लिए सल्फर का उपयोग किया जाता है। सल्फर का उपयोग नसों में रक्त के संचय के लिए किया जाता है, जिससे बवासीर होता है। इस दवा का उपयोग निम्नलिखित लक्षणों को ठीक करने के लिए किया जाता है:-

बार-बार बवासीर होना।

बवासीर के साथ गुदा (anus) में खुजली।

गुदा में मौजूद रक्त वाहिकाओं की सूजन के साथ दर्द,

गुदा क्षेत्र में गंभीर दर्द ।

खुनी बवासीर (read-खुनी बवासीर के लिए घरेलू नुस्खे )

सेवन – भोजन के बाद दिन में 3 बार 2/3 बूंद पानी के साथ लें।

पाइल्स की मेडिसिन नाम | Aesculus hip Q uses in Hindi

बवासीर की यह होम्योपैथिक दवा उन लोगों को दी जाती है, जिन्हें मल त्याग के दौरान दर्द, रक्त बहुत कम और जलन होती है। इस दवा का उपयोग उठने या बैठने या चलने और गुदा में गांठ बनने पर खुजली की स्थिति में बहुत फायदेमंद साबित होता है।

सेवन – सुबह-शाम खाली पेट 10 बूंद पानी के साथ लें।

Hamamelis Virginica Q uses in Hindi

बवासीर की यह होम्योपैथिक दवा खुनी बवासीर के लिए बहुत फायदेमंद है। मल त्याग के दौरान बहुत अधिक खून का आना और दर्द महसूस होता है।

सेवन – सुबह खाली पेट 10 बूंद पानी के साथ लें।

Aloe Socotrina uses in Hindi

जिनके शरीर की मांसपेशियां ढीली होती हैं और गुदा में अंगूर के गुच्छे जैसी गांठें होती हैं, जो मल के साथ बाहर आ जाते है। जिनमे बहुत अधिक दर्द होता है। इस दवा का उपयोग painful piles में बहुत कारगर है। और मलाशय में गर्मी महसूस होने पर भी यह दवा कारगर है।

सेवन – भोजन के बाद दिन में 3 बार 2/3 बूंद पानी के साथ लें।

Collinsonia 30 uses in Hindi

कोलिनसोनिया ३० बवासीर की यह होम्योपैथिक दवा खुनी बवासीर और कब्ज के लिए बहुत फायदेमंद है। पेट में गैस होने के साथ-साथ बहुत दर्द भी होता है।

सेवन – 2/3 बूंद सुबह-शाम पानी के साथ खाली पेट लें।

सावधानियाँ-

इस बीमारी के दौरान, स्नान करते समय गर्म पानी का उपयोग करें और स्नान बैठ कर करें। और सूती कपड़े से बवासीर को साफ करें।

सूजन और दर्द को कम करने के लिए आइस पैक के साथ सिकाई करे।

बवासीर में, हमेशा सूती अंडरवियर पहनें। सूती अंडरवियर खून से नहीं चिपकते है।

दिन में कम से कम 7-8 गिलास पानी पीने से बवासीर से होने वाली तकलीफ में आराम मिलता है।

बवासीर एक गंभीर बीमारी है ,जिसे अनदेखा करना आपको मुश्किल हो सकता है। किसी भी  दवाई का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बाद ही करें ।

नोट – दवा हर किसी व्यक्ति के लिए उपयुक्त नहीं हो सकती है। इसका इस्तेमाल करने से पहले, अपने डॉक्टर को अपनी चिकित्सीय स्थिति या विकार के बारे में बताए हैं। अगर आप कोई अन्य दवाएं ले रहे है तो अपने डॉक्टर को यह भी बताएं। डॉक्टर सुनिश्चित करेगा कि यह आपके लिए सुरक्षित है।

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.