Home » all posts » शिलाजीत: फायदे ,उपयोग ,साइड इफ़ेक्ट | Shilajit: benefits, uses, side effects in hindi

शिलाजीत: फायदे ,उपयोग ,साइड इफ़ेक्ट | Shilajit: benefits, uses, side effects in hindi

बहुत से लोग शिलाजीत के उपचार गुणों के बारे में नहीं जानते हैं। शिलाजीत को पत्थर का तेल, पहाड़ी टार और दिग्गज आँसू कहा जाता है। शिलाजीत का उपयोग सदियों से अपने लाभकारी गुणों के कारण किया जाता रहा है।

शिलाजीत क्या है | What is shilajit

shilajit

आयुर्वेद के अनुसार, शिलाजीत की उत्पत्ति पत्थर के पहाड़ों में होती है। गर्मी में सूरज की तेज गर्मी के कारण, पहाड़ की चट्टानों की धातु सामग्री पिघल जाती है। पिघले पदार्थ को शिलाजीत कहा जाता है। यह काला और ठोस होता है, जो कोल टार के सामान दिखता है, जो सूखने के बाद बहुत चमकदार दिखाई देता है।

शिलाजीत के क्या फायदे हैं | What are the benefits of Shilajit in Hindi?

डायबिटीज– जिन लोगों को डायबिटीज है, उनके लिए भी शिलाजीत बहुत कारगर है। दो चम्मच शिलाजीत को एक चम्मच शहद और एक चम्मच त्रिफला चूर्ण के साथ लेने से मधुमेह में आराम मिलता है। (read-शुगर की बीमारी से कैसे छुटकारा पाएं )

शिलाजीत एक बहुत अच्छा सेक्स टॉनिक भी है। यह पुरुष और महिलाओं दोनों की इच्छा और क्षमता को बढ़ाता है और यौन रोगों को दूर रखता है। महिलाओं में, यह बांझपन को गर्भ धारण करने में भी सहायक है। यह मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित रखता है और अंडाशय को मजबूत और स्वस्थ करता है। पुरुषों में, यह शुक्राणु को स्वस्थ बनाता है और शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाता है।

जिन लोगों को बार-बार पेशाब आने की समस्या होती है, उन्हें शिलाजीत, बंग भस्म, छोटी इलायची के दाने को बराबर मात्रा में सुबह-शाम शहद के साथ लेना चाहिए। यह शरीर को ऊर्जा देता है और शरीर को मजबूत बनाता है।

शिलाजीत शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। शिलाजीत को सुबह और शाम दूध और शहद के साथ लेने से शरीर कई बीमारियों से दूर रहता है। और संक्रमण का खतरा भी कम होता है।

शिलाजीत का उपयोग शारीरिक शक्ति के साथ-साथ मानसिक शक्ति को बढ़ाने के लिए भी किया जाता है। शुद्ध मक्खन के साथ रोजाना एक चम्मच शिलाजीत लेने से मानसिक थकावट नहीं होती है और व्यक्ति की याददाश्त और दिमाग में सुधार होता है।

शिलाजीत का उपयोग रक्तचाप (blood pressure) को सामान्य करने के लिए भी किया जाता है। शिलाजीत के इस्तेमाल से रक्त शुद्ध होता है और नसों में रक्त का संचार बढ़ता है, जिसके कारण शरीर स्वस्थ महसूस करता है और शरीर को ताकत मिलती है।

अनिद्रा टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी के कारण होता है। और शिलाजीत के सेवन से टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है। इसलिए, आपको सोने से पहले शिलाजीत का सेवन करना चाहिए।

शिलाजीत में अधिक मात्रा में आयरन होता है, जो आयरन की कमी वाले एनीमिया के इलाज में मदद  करता है। एनीमिया के कारण, एक व्यक्ति कई बीमारियों का सामना कर सकता है। फिर भी, पूरक लेने से पहले डॉक्टर की  है।

लंबे समय तक जवान दिखने के लिए शिलाजीत बहुत फायदेमंद है। इसका सेवन करने से यह एंटी एजिंग एजेंट के रूप में काम करता है। जिसके कारण बढ़ती उम्र का प्रभाव कम होता है।

शिलाजीत के नुकसान | Side effect of shilajit in hindi

शिलाजीत का अधिक मात्रा में सेवन शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है।

इसमें उच्च मात्रा में आयरन होता है। इसके अधिक सेवन से आयरन से संबंधित बीमारियां (हीमोक्रोमेटोसिस) हो सकती हैं। और यह एलर्जी का कारण भी बन सकता है।

नकली शिलाजीत भी बाजार में उपलब्ध है, जिसके सेवन से आपको कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इसलिए केवल अच्छे ब्रांड का शिलाजीत कैप्सूल, पाउडर, या सिरप का सेवन करना चाहिए।

शिलाजीत का उपयोग कैसे करें | How to use shilajit in hindi

शिलाजीत तरल और पाउडर के रूप में मिलता है। निर्देशों के अनुसार शिलाजीत का उपयोग करें, बड़ी मात्रा में इसका सेवन हानिकारक भी हो सकता है। शिलाजीत का उपयोग दिन में 1 या 2 बार 150 मिलीग्राम तक किया जा सकता है।

शिलाजीत की तासीर क्या है | What is the effect of Shilajit in hindi?

शिलाजीत की तासीर गर्म होती है। इसलिए गर्मियों में इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। सर्दियों में खांसी, जुकाम आदि से बचाब के लिए इस्तिमाल किया जाता है।