Home » all posts » Hepafresh Injection: फायदे और साइड इफेक्ट्स | Hepafresh Injection Benefits and Side Effects in Hindi

Hepafresh Injection: फायदे और साइड इफेक्ट्स | Hepafresh Injection Benefits and Side Effects in Hindi

Hepafresh Injection के बारे में जानकारी

Hepafresh Injection का उपयोग लिवर फाइब्रोसिस, फैटी लीवर, सिरोसिस, और हेपेटाइटिस जैसे लिवर की बीमारियों से पीड़ित रोगियों के इलाज के लिए किया जाता है। hepafresh एंटीऑक्सिडेंट नामक दवाओं के एक वर्ग से संबंधित है। यह हानिकारक रासायनिक पदार्थों (मुक्त कणों) से जिगर/liver की रक्षा करके का काम करता है, इस प्रकार यह जिगर की क्षति को रोकता है।

Hepafresh Injection एक डॉक्टर द्वारा इस्तिमाल किया जाता है। आपको घर पर इस दवा का उपयोग नहीं करना चाहिए। यदि आप अस्थमा रोगी हैं, तो आपको इलाज शुरू करने से पहले डॉक्टर को अपनी स्वस्थ स्थिति के बारे में बताना चाहिए।

Hepafresh Injection की सामग्री | Ingredients of Hepafresh Injection in Hindi

Glutathione

Hepafresh Injection के फायदे और उपयोग | Benefits and Uses of Hepafresh Injection in Hindi

Hepafresh Injection लिवर को हानिकारक रसायनों से होने वाले नुकसान से बचाता है, जिससे लिवर स्वास्थ्य रहता है। और लिवर को सामान्य कार्य करने में मदद करता है। यह डॉक्टर द्वारा इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है और इसे खुद इस्तिमाल नहीं किया जाना चाहिए। अच्छे स्वस्थ प्रभाव पाने के लिए  धूम्रपान बंद करें, स्वस्थ वजन बनाए रखें, और शराब न पीएं।

इसका इस्तिमाल निम्नलिखित बीमारियों, स्थितियों और लक्षणों के उपचार और रोकथाम के लिए किया जाता है:

  • लिवर की बीमारी
  • अल्कोहलिक फैटी लिवर रोग
  • हेपेटाइटिस बी
  • दिल की बीमारी
  • मोतियाबिंद

Hepafresh Injection के साइड इफेक्ट्स | Side effects of Hepafresh Injection in Hindi

इसका उपयोग किए जाने पर निम्नलिखित दुष्प्रभाव देखे जा सकते हैं –

  • इंजेक्शन लगने वाली जगह पर लालिमा, दर्द और सूजन
  • त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ना
  • मतली और उल्टी
  • पेट दर्द
  • दस्त
  • मुँह का सुखना
  • छाती में दर्द
  • ठंड लगना
  • सांस लेने में दिक्कत
  • खांसी
  • सिर चकराना या सरदर्द

इन बीमारियों से पीड़ित होने पर सावधानी बरतें –

यदि आपको इनमें से कोई भी बीमारी है, तो Hepafresh न लें क्योंकि इससे आपकी स्वस्थ स्थिति और खराब हो सकती है।

दमा (read-दमा (अस्थमा) के घरेलू उपचार )

दवा से एलर्जी

Low BP

ब्रोंकाइटिस

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *