फेफड़ों का इन्फेक्शन का इलाज | Treatment of lung infection in hindi

फेफड़े का संक्रमण (Lungs infection) वायरस, बैक्टीरिया या कभी-कभी कवक के कारण भी हो सकता है। फेफड़ों के संक्रमण के सबसे आम बीमारी को निमोनिया कहा जाता है। निमोनिया हमारे एक या दोनों फेफड़ों में हो सकता है। निमोनिया जो फेफड़ों के छोटे वायु प्रवाह को प्रभावित करता है, जिस कारण हमें साँस लेने में दिक्कत होती है। इसके अलावा, संक्रमण फेफड़ों के बड़े श्वसन पथ में भी हो सकता है, जिसे “ब्रोंकाइटिस” के रूप में जाना जाता है। अक्सर फेफड़े का संक्रामक बैक्टीरिया के कारण होता है, लेकिन यह वायरस के कारण भी हो सकता है।

फेफड़ों में इन्फेक्शन के लक्षण | Symptoms of lung infection in hindi

  • खांसी – आपकी खांसी में हरे या पीले रंग का बलगम हो सकता है।
  • घरघराहट और सांस की तकलीफ
  • सांस उखड़ना
  • सीने में दर्द या बेचैनी
  • तेज बुखार
  • सरदर्द
  • मांसपेशी में दर्द
  • थकान
  • रात को सोते हुए पसीना आना
  • आमतौर पर लक्षण लगभग 7 से 10 दिनों में अपने आप ही ठीक हो जाते हैं।
  • खांसी और बलगम 3 सप्ताह तक रह सकते हैं।

फेफड़े के संक्रमण का कारण | Cause of lung infection in hindi

बैक्टीरिया और वायरस फेफड़ों में संक्रमण के दो मुख्य कारण हैं। रोगी की सांस लेने के दौरान, ये रोगाणु फेफड़ों तक पहुंच जाते हैं और फेफड़ों में छोटे एयर बैग में जमा हो जाते हैं। फेफड़ों में पहुंचने के बाद, इन रोगाणु का विकास होने लगता है और उनकी संख्या भी बढ़ने लगती है।
संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। ये रोगाणु हवा में तब फैलते हैं जब रोगी खांसता है, बोलता है और छींकता है और उस हवा में सांस लेकर एक स्वस्थ आदमी के फेफड़ों तक पहुँचता है। संक्रमित रोगी द्वारा किसी चीज को छूने से स्वस्थ व्यक्ति के फेफड़ों तक संक्रमण पहुच सकता है।

फेफड़ों के संक्रमण का इलाज | Treatment of lung infection in hindi

एंटीबायोटिक, एंटीवायरल और एंटिफंगल दवाओं का उपयोग फेफड़ों के संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है, संक्रमण के कारण के आधार पर उपचार के लिए सही दवा का चयन किया जाता है। ज्यादातर मामलों में बैक्टीरिया के कारण होने वाले निमोनिया का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं के साथ किया जाता है। एंटीबायोटिक दवाओं का प्रभाव एक से तीन दिनों के भीतर दिखाई देने लगता है।
आपके बलगम का एक नमूना से आपके सीने के संक्रमण का कारण पता चलता है। संक्रमण किस कारण ये पता करने के लिए परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है।

फेफड़ों के संक्रमण के लिए कुछ घरेलू उपचार | Some home remedies for lung infectionin hindi

अच्छी मात्रा में गर्म पानी पिएं, जिससे बलगम पतला होकर खांसी के साथ आसानी से बाहर निकले।
सोते समय अपने सिर के नीचे मोटा तकिया रखकर सोएं, ऐसा करने से सांस लेने में आसानी होती है।
खांसी से राहत पाने के लिए शहद और नींबू को गर्म पानी में मिला कर सेवन करें।
बुखार, गले में खराश, सिरदर्द और मांसपेशियों में दर्द जैसे फेफड़ों में संक्रमण के कारण होने वाली स्थितियों से राहत पाने के लिए एनाल्जेसिक दवा लें।
गले के दर्द को ठीक करने के लिए नमक के पानी से डालकर गरारे करें।
एक बर्तन में गर्म पानी और खाने वाला सोडा डालें और उसे भाप दें।

फेफड़ों में इन्फेक्शन से बचाव | Prevention of lung infection in hindi

  • अपने चिकित्सक द्वारा निर्देशित रहें, लेकिन सामान्य स्व-देखभाल सुझावों में शामिल हैं:
  • अपने हाथों को अच्छे से धोएं , ऐसे कई रोगाणु होते हैं जो हाथों से हमारे शरीर के अंदर जाते हैं और संक्रमण फैलाते हैं। आपको अपने हाथों को दिन में कई बार साबुन से अच्छी तरह धोना चाहिए।
  • निर्देशानुसार अपनी दवा लें। यहां तक कि अगर आप बेहतर महसूस करते हैं, तो एंटीबायोटिक दवाओं का कोर्स खत्म करें।
  • अधिक मात्रा में तरल पदार्थ पिए।
  • कुछ दिन आराम करें।
  • धूम्रपान करना बंद करें, कम से कम जब तक आप बेहतर महसूस न करें।
  • यदि आपको कोई चिंता या सवाल है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.