हिमालय पाइलेक्स टेबलेट के फायदे और उपयोग | Himalaya Pilex Tablet Benefits in Hindi

हिमालय पाइलेक्स टेबलेट के बारे में जानकारी

Himalaya Pilex Tablet को हिमालय ड्रग कंपनी द्वारा निर्मित है। और यह एक 100% आयुर्वेदिक दवा है। जिसका इस्तेमाल मुख्य रूप से बवासीर के इलाज के लिए किया जाता है। Himalaya Pilex Tablet दोनों प्रकार के बवासीर खूनी और वादी बवासीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

हिमालय पाइलेक्स टेबलेट के फायदे | Himalaya Pilex Tablet Benefits in Hindi

Himalaya Pilex Tablet का इस्तिमाल निम्नलिखित बिमारियों के इलाज के लिए किया जाता है – (buy himalaya pilex tablet click here)

  • बवासीर (आंतरिक और बाहरी बवासीर)
  • गुदा से खून बहना
  • दर्द
  • खुजली
  • कब्ज (Constipation)

हिमालय पाइलक्स टैबलेट का उपयोग | Himalaya Pilex Tablet uses in hindi

हिमालय पाइलक्स टैबलेट आंतरिक और बाहरी बवासीर दोनों प्रकार के बवासीर के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। और यह बवासीर के कारण होने वाले लक्षणो जैसे- दर्द, खुजली में भी लाभकारी है। खूनी बवासीर में खून की समस्या और दर्द में राहत देता है। और बवासीर के मस्से को सुखाता है।

हिमालय पाइलेक्स टेबलेट की खुराक | Himalaya Pilex tablet Dosage in hindi

हिमालय पाइलक्स टैबलेट भोजन के बाद लेना बेहतर है। गुनगुने पानी के साथ हिमालय पाइलक्स टैबलेट दिन में 2 से 3 बार ले सकते है। Himalaya Pilex Tablet की खुराक है।

  • बच्चों में 1 गोली दिन में 2 या 3 बार
  • व्यासको में 2 गोलियाँ दिन में 2 या 3 बार

Himalaya Pilex Tablet की सामग्री | Himalaya Pilex Tablet Ingredients in hindi

  • गूगुलू 26mg
  • शिलाजीत 32 मि.ग्रा
  • नीम के बीज 14 मि.ग्रा
  • आंवला 32 मिग्रा
  • दारू हल्दी 64 मि.ग्रा
  • बिभीतकी (बहेड़ा) 32 मि.ग्रा
  • हरीटाकी 32 मि.ग्रा
  • अमलतास 32 मि.ग्रा
  • कचनार 32mg
  • नागकेसर 6 मि.ग्रा

हिमालय पाइलक्स टैबलेट के साइड इफेक्ट्स | Himalaya Pilex Tablet Side Effects in hindi

हिमालय पाइलक्स टैबलेट एक 100% आयुर्वेदिक दवा है। इसलिए Himalaya Pilex Tablet का कोई नुकसान नहीं देखा गया है। यदि आपको इस टैबलेट का उपयोग करने के बाद आपको कोई दुष्प्रभाव दिखाई देते हैं। फिर आप डॉक्टर से संपर्क करें।

सावधानियां | Precautions

गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

स्तनपान करने वाली महिलाएं इसका सेवन डॉक्टर की सलहा से करें।

डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार ही इसकी खुराक का उपयोग करें।

उपयोग करने से पहले लेबल को ध्यान से पढ़ें

धूप से दूर, ठंडी और सूखी जगह पर रखें।

बच्चों की पहुंच से दूर रखें।