Home » all posts » हर्निया: प्रकार, कारण, इलाज, सावधानियां

हर्निया: प्रकार, कारण, इलाज, सावधानियां

हर्निया क्या है | What is hernia in Hindi

जब शरीर का ऊतक या कोई हिस्सा अपने स्थान से बाहर आता है, तो उस स्थिति को हर्निया कहा जाता है। हर्निया तब होता है जब पेट की मांसपेशियों की अंदर की परतें कमजोर हो जाती हैं, जिसके परिणामस्वरूप एक उभार होता है। जैसे कि साइकिल का ट्यूब कमजोर टायर से बाहर गुब्बारा जैसी थैली बनाती है। इसी प्रकार पेट की आंतरिक परत पेट की दीवार के कमजोर क्षेत्र के माध्यम से एक छोटा गुब्बारा जैसी थैली बनाती है।

कई मामलों में, हर्निया में बहुत कम लक्षणों दिखाई देते है, हालांकि आप अपने पेट या कमर में सूजन या गांठ देख सकते हैं। गांठ को दबाने पर या लेटते ही यह गायब हो जाता है।

यदि समय रहते इस समस्या का समाधान नहीं किया जाता है, तो यह गंभीर दर्द, या अन्य गंभीर समस्याओं का कारण बन सकती है। जिसमे आपातकालीन सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। पुरुषों और महिलाओं दोनों को हर्निया हो सकता है। हर्निया (जन्मजात) के साथ पैदा हो सकती हैं। या समय के साथ विकसित हो सकते हैं।

हर्निया के प्रकार | Types of hernia in Hindi

इनगुइनल हर्निया | Inguinal hernias-

जांघ में, जहां इनगुइनल हर्निया विकसित होता है, आप वहाँ पर उभार को महसूस कर सकते है। उस हिस्से में सूजन के कारण जलन और दर्द महसूस होगा। इसमें अंडकोष की पतली नली की सहायता से आंत अंडकोष में फिसल जाती है और अंडकोष में सूजन आ जाती है। यह हर्निया का सबसे आम प्रकार है और यह मुख्य रूप से पुरुषों में होता है। यह अक्सर उम्र बढ़ने या भरी वजन उठाने के कारण होता है।

फेमोरल हर्निया (Femoral  hernias)-

कभी-कभी जांघ या कमर के ऊपरी हिस्से में एक दर्दनाक गांठ के रूप में दिखाई देते हैं। गांठ को अक्सर पीछे धकेला जा सकता है या लेटते ही गायब हो जाता है। खांसी आने पर यह गांठ दिखाई दे सकती है। वे इनगुइनल हर्निया की तुलना में बहुत कम आम हैं और पुरुषों की तुलना में अधिक महिलाओं को प्रभावित करते हैं।

अम्बिलिकल हर्निया (Umbilical hernias)-

इसे नाभि हर्निया के नाम से भी जाना जाता है। नाभि हर्निया तब होता है जब आपकी आंत का हिस्सा आपके पेट की कमजोर मांसपेशियों के माध्यम से आपके बेलीबटन (नाभि) के पास उभर या बाहर निकल आता है। शिशुओं में नाभि हर्निया सबसे आम है, लेकिन वे वयस्कों (adults) को भी प्रभावित कर सकते हैं।

हाइटल हर्निया | Hetus Hernias-

हाइटल हर्निया तब होता है जब आपके पेट का ऊपरी हिस्सा आपके पेट और छाती (डायफ्रामिया) को अलग करने वाली बड़ी मांसपेशी के माध्यम से उभार कर सीने की गुहा में आ जाता। है। इसमें ऊपरी पेट में दर्द और जलन, उल्टी, मतली और पेट से गले तक एसिड के कारण गले में खट्टा स्वाद की भावना जैसी समस्याएं पैदा करता है।

हर्निया होने के कारण | Hernia Causes in Hindi

  • पेट की मांसपेशियों का कमजोर होना- जब किसी व्यक्ति के पेट की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, तो वे हर्निया का कारण बन सकते हैं।
  • पुरानी खांसी- लंबे समय से खांसी के कारण पेट की दीवारो पर अत्यधिक दबाव पड़ता है जिसके कारण पेट की मांसपेशियों का कमजोर होना लगती है ,ऐसे लोगो को हर्निया हो सकता है।
  • अधिक वजन होना- अधिक वजन वाले व्यक्ति को हर्निया होने की संभावना अधिक होती है। इसलिए वजन कम करने की कोशिश करनी चाहिए।
  • कब्ज – जिस व्यक्ति को कब्ज की शिकायत है, कब्ज के कारण मल त्याग के दौरान तनाव बढ़ जाता है। उसे यह समस्या हो सकती है।
  • बढ़ती उम्र – 60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति में हर्निया होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि उसके शरीर की मांसपेशियां बहुत कमजोर हो जाती हैं और वे उभर आती हैं।
  • गर्भावस्था के समय, बच्चे की पेट की दीवार की मांसपेशियों ठीक से विकसित नहीं हो पाना। यह बच्चों एक जन्मजात दोष हो सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान, जो हमारे पेट में दबाव का कारण बनता है।
  • भारी वजन उठाना।

हर्निया की रोकथाम | Prevention of Hernia in Hindi

हर्निया के खतरे को कम किया जा सकता है। इसके लिए हमें पेट पर दबाव कम करना चाहिए, जिससे हमारे पेट के कमजोर हिस्सों पर दबाव न पड़े। ऐसा करने के लिए, निम्नलिखित पर विचार करें:-

  • वजन को नियंत्रण में रखें
  • स्वस्थ आहार खाएं और कब्ज की शिकायत को दूर करने के लिए व्यायाम करें।
  • मल त्याग और पेशाब के दौरान अत्यधिक बल से बचें।
  • वज़न उठाते समय सही तकनीक का उपयोग करें, खासकर भारी वस्तुओं को उठाते समय।
  • खांसी से बचे।

हर्निया का इलाज कैसे किया जाता है | Hernia Treatment in Hindi

किसी मरीज को हर्निया के इलाज की आवश्यकता है या नहीं, यह हर्निया के आकार और प्रकार के लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है। हर्निया के लिए इलाज के विकल्प कई तरह से हो सकते हैं, जैसे- जीवनशैली में बदलाव, दवाएं और सर्जरी।

जीवनशैली में बदलाव | Lifestyle changes –

हर्निया का उपचार जीवनशैली में बदलाव से भी किया जा सकता है। अपने आहार में परिवर्तन करके हाइटल हर्निया के लक्षणों का इलाज किया जा सकता है। लेकिन इसके साथ हर्निया को हमेशा के लिए मिटाया नहीं जा सकता। रोगी को भारी भोजन करने से बचना चाहिए, खाना खाने के बाद झुकने और मुड़ने से बचना चाहिए और अपने वजन को भी नियंत्रण में रखना चाहिए। गैस और सीने में जलन में मसालेदार भोजन न करके हर्निया के लक्षणों से बचा जा सकता हैं।

व्यायाम से हर्निया के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत करने में सहायक हो सकते हैं। जिसके कारण हर्निया के लक्षणों को कम किया जा सकता है। ध्यान रखे कि गलत तरीके से व्यायाम हर्निया के आसपास के हिस्सों में दबाव बढ़ा सकता है, जो हर्निया के बढ़ने का कारण हो सकता है। आप जो भी व्यायाम करते हैं, अपने डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही करें।

होम्योपैथिक उपचार | Homeopathic treatment –

होम्योपैथी ने बहुत तेजी से प्रसिद्धि प्राप्त की है, इसीलिए लोग इसे अपना रहे हैं। यदि किसी व्यक्ति को हर्निया की शुरुआती समस्या है, तो वह होम्योपैथिक उपचार करा सकता है। यह भी फायदेमंद साबित हो सकता है।

हर्निया के उपचार के लिए कुछ दवाएं-

हाइटल हर्निया के रोगियों के लिए कुछ दवाएं हैं। जो पेट के एसिड की मात्रा को कम करने में सहायक हैं। ये दवाएं हर्निया के लक्षणों से राहत दे सकती हैं। जैसे – एंटासिड, famotidine, nizatidine and ranitidine शामिल हैं।

सर्जरी | surgery

यदि हर्निया लगातार बढ़ रहा है और दर्द है, तो आपका डॉक्टर इसे रोकने के लिए सर्जरी की सलहा दे सकता है। हर्निया की सर्जरी के लिए 2 मुख्य तरीके हैं।

ओपेन सर्जरी (Open surgery) – ओपन सर्जरी करने के बाद, घाव को ठीक होने में लंबे समय लगता है। रोगी को सामान्य जीवन शैली में आते 6 महीने समय लगता है। जबकि लेप्रोस्कोपिक सर्जरी को ठीक होने के लिए बहुत कम समय की आवश्यकता होती है।

लेप्रोस्कोपिक सर्जरी (Laparoscopic surgery)- इसमें बहुत छोटे कैमरे और छोटे उपकरण का उपयोग करके सर्जरी होती है। और इसमें एक छोटा सा चीरा इस सर्जरी में किया जाता है। यह सर्जरी आसपास की मांसपेशियों के लिए बहुत हानिकारक नहीं है।

हर्निया ऑपरेशन में कितना खर्च होता है

लोग हर्निया सर्जरी को एक महंगी प्रक्रिया मानते हैं, यही कारण है कि वे ऐसा करने में संकोच करते हैं। लेकिन अगर उन्हें पता है कि यह एक किफायती सर्जरी है, जिसमें औसतन 20 से 60 हजार खर्च होते हैं, तो शायद वे भी ऑपरेशन करा सकते हैं। हर्निया ऑपरेशन का खर्चा उसके प्रकार पर भी निर्भर करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *