Home » all posts » अलसी के फायदे, उपयोग और नुकसान | Flaxseed Benefits uses and Side Effects in Hindi

अलसी के फायदे, उपयोग और नुकसान | Flaxseed Benefits uses and Side Effects in Hindi

अलसी के बीज हमारे स्वस्थ के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, जिंक, मैग्नीशियम, आयरन और ओमेगा -3 फैटी एसिड जैसे पोषक तत्वों होते हैं। शरीर में पोषक तत्वों को पूरा करने के लिए, सभी उम्र के लोग आहार में अलसी का उपयोग कर सकते हैं। और इसीलिए अलसी एक महत्वपूर्ण आहार के रूप में जानी जाती है।

अलसी के बीज वजन घटाने के लिए, दिल की सेहत , पुराना कब्ज, मधुमेह और कई बीमारियों के उपचार में, इनका उपयोग करना फायदेमंद होता हैं। अलसी के बीज को आहार में शामिल करने के कुछ सप्ताह बाद, आपको अलसी के फायदे दिखाई देने लगेंगे। मछली में पाया जाने वाला ओमेगा -3 फैटी एसिड भी अलसी के बीज में पाया जाता है। और इसलिए अलसी के बीज शाकाहारियों के लिए बहुत उपयोगी है। आयुर्वेद में अलसी के औषधीय गुणों को मनुष्यों के लिए अमृत के रूप में वर्णित किया गया है।

अलसी के फायदे | Flax Seeds Benefits in Hindi

आहार में सही मात्रा में अलसी के बीज शामिल करना आपको कई लाभ दे सकता है। जैसे अलसी के बीज कई खाद्य पदार्थों से भरपूर होते हैं जो शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं।

अलसी के बीज दिल की सेहत के लिए फायदेमंद है | Flax seeds are beneficial for heart health in hindi

दिल से संबंधित बीमारियों के बढ़ने का कारण आहार की देखभाल न करना है। स्वस्थ दिल के लिए आप अलसी के बीज से लाभ आसानी से उठा सकते हैं। आप जानते है, अलसी के बीज में ओमेगा -3 फैटी एसिड ( अच्छी वसा ) होते हैं जो दिल को स्वस्थ रखने के लिए बहुत जरुरी हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड रक्तचाप को कम करने, और दिल की धड़कन को सामान्य रखता है। इसमें पाया जाने वाला लिंगन दिल को एथेरोस्क्लेरोसिस (धमनियों का सख्त होना) से बचाता है। अलसी के बीज में मौजूद उच्च फाइबर खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। और रक्त में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

अलसी धमनियों को सख्त होने से बचाता है। यह धमनियों की दीवारों पर रक्त वाहिकाओं की भीतरी दीवारों से चिपके रहने से धमनियों की दीवारों पर कोलेस्ट्रॉल को जमने नहीं देता है।

पाचन तंत्र में सुधार करता है | Improves digestive system in hindi

अलसी के बीज में घुलनशील और अघुलनशील फाइबर दोनों होते हैं। अलसी बीज में मौजूद फाइबर आंतों के माध्यम से मल की गति में सुधार करता है। कब्ज की शिकायत को दूर करता है। और छोटी आंत में पोषक तत्वों के अवशोषण में सुधार करता है। घुलनशील फाइबर पानी में घुल जाता है और एक जेल जैसा पदार्थ बनाता है, जिससे पेट अधिक समय तक भरा रहता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करें | Reduce high cholesterol levels in hindi

अध्ययनों से पता चला है कि रोजाना अलसी खाने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर काफी कम हो सकता है। इसमें ओमेगा -3 फैटी एसिड, फाइबर और लिंगन (lignan) होते हैं, जो एक साथ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। रक्तप्रवाह में कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन अक्सर हृदय और रक्त वाहिका रोग, मोटापे और मेटाबोलिक से जुड़े होते हैं।

कैंसर से बचाव | Cancer prevention in hindi

अलसी के बीज में एंटीऑक्सिडेंट कैंसर और हृदय रोग से सुरक्षा प्रदान करते हैं। हाल के अध्ययनों से पता चला है। कि अलसी से स्तन, प्रोस्टेट और पेट के कैंसर के खतरे को काफी कम किया जा सकता है। सन बीज में मौजूद लिंगन (lignan) एंटीजेनिक होते हैं। और ट्यूमर के निर्माण को रोकते हैं। अलसी के बीज में अल्फा-लिनोलेनिक एसिड, एक ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है जो ट्यूमर के विकास को रोकता है। और कैंसर को अन्य ऊतकों में फैलने से रोकता है। दही में पिसी हुई अलसी के बीज मिलाकर सेवन किया जा सकता है। भोजन पकाने के लिए आप अलसी के तेल का उपयोग कर सकते हैं।

मधुमेह नियंत्रण में सुधार | Improve diabetes control in hindi

कई शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला है। कि लिंगन (lignan) युक्त खाद्य पदार्थों का दैनिक उपयोग इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करते हुए रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर करता है। शोध के अनुसार, जो लोग 12 सप्ताह तक अलसी का सेवन करते हैं। उनके इंसुलिन प्रतिरोध में कमी देखी गई। अलसी के बीज में एंटीऑक्सिडेंट के उच्च स्तर के कारण ऑक्सीडेटिव तनाव में कमी होता है। अलसी के बीज में अल्फा-लिनोलेनिक एसिड के साथ-साथ प्रोटीन और फाइबर होते हैं जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करते हैं।

त्वचा के लिए अलसी के बीज के फायदे | Benefits of flax seeds for skin in hindi

अलसी के बीज महिलाओं के लिए अच्छे क्यों होते हैं? अलसी और अलसी के तेल में कई त्वचा के अनुकूल पोषक तत्व होते हैं जो त्वचा के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। अलसी के तेल का उपयोग आपकी त्वचा की सुंदरता को बढ़ाने के लिए कई फेस पैक, शावर जैल, सनस्क्रीन ,और मॉइस्चराइज़र बनाने के लिए किया जा सकता है।

बालों के लिए अलसी के फायदे | Benefits of flaxseed for hair in hindi

अलसी में प्रोटीन, कैल्शियम, जिंक, मैग्नीशियम, आयरन और ओमेगा -3 फैटी एसिड जैसे पोषक तत्वों होते हैं जो आपके बालों को बढ़ाने में मदद करते हैं। सुंदर और मजबूत बाल बनाती है। अलसी के नियमित सेवन से बालों की समस्याएं जैसे रूसी, खुजली और बालों का टूटना कम होता है।

अलसी के बीजों में मौजूद विटामिन ई बालों की जड़ों और खोपड़ी को पोषण देता है और बालों के झड़ने और गंजापन को रोकने में मदद करता है। अपने दैनिक आहार में अलसी के बीज या उनके तेल को शामिल करें और बालों को स्वस्थ और मजबूत बनाएं।

शरीर को विषाक्त पदार्थों से मुक्त | Body free of toxins in hindi

शरीर को detoxify करने उद्देश्य लिवर से विषाक्त पदार्थों, कोलेस्ट्रॉल और अन्य अपशिष्ट उत्पादों को बाहर निकालना है। अलसी के बीज में घुलनशील और अघुलनशील दोनों प्रकार के फाइबर होते हैं जो आंतों के मार्ग से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देते हैं।

अलसी का उपयोग कैसे करें | How to use flaxseed in hindi

अलसी को भूनें लें । फिर मिक्सर में पीस लें और एक एयर टाइट कंटेनर में भर दें। एक चम्मच चूर्ण सुबह-शाम पानी के साथ लें। इसे सब्जी या दाल में मिलाकर भी लिया जा सकता है।

अलसी सेवन के दौरान खूब पानी पिएं। इसमें अधिक फाइबर है। जिससे पचाने के लिए अधिक पानी की जरुरत होती है।

अलसी का सेवन आप कई रूपों में कर सकते हैं जैसे कि अलसी की रोटी, पूड़ी, मिठाई, सूप, सलाद या दाल , आदि। एक चम्मच अलसी आपके भोजन को बहुत पौष्टिक बना देती है।

आप भोजन पकाने के लिए अलसी के तेल को उपयोग कर सकते हैं। अलसी के तेल का उपयोग त्वचा और बालों की हल्की मालिश के लिए किया जा सकता है।

अलसी के नुकसान | Side Effects of Flax Seeds in hindi

किसी भी चीज की उचित मात्रा में सेवन करने से उसके लाभ मिलते हैं। अलसी के साथ भी ऐसा ही है। सही मात्रा में अलसी का सेवन आपको उपरोक्त लाभ दे सकता है। अगर अलसी का सेवन अधिक मात्रा में किया जाता है। तो अलसी आपको नुकसान कर सकती है।

  • दस्त ( loose motion) अगर अलसी की सही मात्रा खा ली जाए, तो यह कब्ज से राहत दिला सकती है, लेकिन अगर इसे अधिक मात्रा में लिया जाए, तो यह दस्त का कारण बन सकती है।
  • आंतों में रुकावट अगर पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ लिए बिना अत्यधिक अलसी खाने से आंतों में रुकावट आ सकती है। जिन लोगों को पहले से ही ऐसी शिकायतें हैं, उन्हें अलसी के बीज नहीं खाने चाहिए।
  • एलर्जी  कुछ लोग जो अधिक अलसी खाते ही एलर्जी होने लगती है। बहुत अधिक अलसी खाने से सांस की तकलीफ, निम्न रक्तचाप ,एलर्जी हो सकती है।
  • डायबिटीज की दवा के साथ अलसी के बीजों का उपयोग करते समय ब्लड शुगर की जाँच करते रहें।
  • गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अलसी का सेवन नहीं करना चाहिए ।
  • रक्तचाप के मरीज को अलसी का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है।
  • अगर आप रक्त पतला करने की दवाई ले रहे हैं तो अलसी का सेवन ना करें।

अलसी की तासीर कैसी है |  Alsi ki taaser

अलसी की तासीर गर्म हैं, इसकी गर्म तासीर के कारण यह मौसमी सर्दी जुकाम को ठीक करने में भी अच्छा काम करती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *