सर्दी जुकाम बुखार का घरेलू नुस्खा |Home remedy for cold, cold fever

सर्दी, खांसी, जुकाम ,बुखार एक आम बीमारी है, यह साधारण दवाई लेने के बाद भी ठीक हो जाती है, लेकिन कभी-कभी अगर हम सामान्य बीमारियों पर ध्यान नहीं देते हैं, तो यह घातक साबित हो सकती है, इसलिए इन बीमारियों का समय पर और सही तरीके से इलाज किया जाए। जिसके कारण सिरदर्द, बलगम, बदन दर्द जैसी कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं।

सर्दी जुकाम बुखार क्या होता है ​?

सर्दी जुकाम बुखार एक वायरस के कारण होने वाली बीमारी है। इस बीमारी के लिए 200 से अधिक प्रकार के वायरस जिम्मेदार हैं, लेकिन राइनोवायरस सबसे आम वायरस हैं। यह लगभग 50% सर्दी के मामलों के लिए जिम्मेदार है। इसके अलाबा जैसे – कोरोनावायरस, ,(respiratory syncytial virus), इन्फ्लूएंजा और पैराइनफ्लुएंजा कुछ अन्य वायरस हैं जो जुकाम का कारण बन सकते हैं।

सर्दी जुकाम  के लक्षण –

  • बंद नाक
  • बहता नाक
  • कुछ भी न सूंघ पाना
  • बार-बार छींकें
  • सर्दी जुकाम
  • सरदर्द
  • गले में खरास
  • खांसी
  • थकान
  • ठंड लगना
  • शरीर दर्द
  • हल्का बुखार
  • सीने में तकलीफ ( सीने में दर्द)
  • गहरी सांस लेने में कठिनाई

सर्दी जुकाम बुखार का घरेलू नुस्खा

हल्दी वाला दूध

हल्दी वाला दूध जुकाम में बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो हमें कीटाणुओं से बचाते हैं। रात को सोने से पहले हल्दी वाले दूध को पीने से राहत मिलती है। हल्दी में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण होते हैं, जो संक्रमण से लड़ते हैं। इसके विरोधी भड़काऊ गुण (inflammatory properties) सर्दी, खांसी, और जुकाम, बुखार के लक्षणों में राहत देते हैं।

शहद का उपयोग

बच्चों और बुजुर्गों को आम सर्दी में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। सर्दियों में शहद का सेवन करने से शरीर को कई बीमारियों से दूर रखा जा सकता है। आयुर्वेद में शहद को अमृत माना गया है। सर्दी, जुकाम होने पर रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुना दूध और एक चम्मच शहद पिएं। शहद शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) को ठीक करता है। शहद में कई तरह के एंटीबैक्टीरियल और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं। नींबू के साथ चाय में शहद पीने से गले में दर्द को कम किया जा सकता है।

अदरक का उपयोग

वैज्ञानिक प्रमाण है। कि उबलते पानी में अदरक की कुछ स्लाइस खांसी या गले में खराश को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। शोध बताते हैं कि यह मतली की भावनाओं को भी दूर कर सकता है जो अक्सर इन्फ्लूएंजा के साथ होता है।

तुलसी, पुदीना, अदरक, और काली मिर्च को चाय में मिलाकर पिएं, आपको जल्द ही ठंड से राहत मिलेगी

काली मिर्च सर्दी से राहत

काली मिर्च कफ को कम करने में सहायक है, काली मिर्च का उपयोग भरी नाक को साफ करने के लिए किया जाता है। काली मिर्च में रोगाणुरोधी गुण (antimicrobial properties) भी होते हैं और यही कारण है कि काली मिर्च व्यापक रूप से खांसी और जुकाम में उपयोग की जाती है।

श्वसन प्रणाली को साफ करने के लिए रोजाना दो या तीन बार आधा चम्मच काली मिर्च पाउडर के साथ एक गिलास गुनगुना पानी में मिलाकर पिएं।

काली मिर्च और तिल के तेल की कुछ बूंदों का मिश्रण बनाएं और इसे सूंघें। यह छींक को प्रेरित करेगा।

लहसुन का उपयोग

लहसुन रोगाणुरोधी (antimicrobial) गुण होते हैं। अपने आहार में लहसुन को शामिल करने से ठंड के लक्षणों की गंभीरता कम हो सकती है। लहसुन को घी में भूनकर गर्म-गर्म खाएं। यह स्वाद में खराब हो सकता है लेकिन स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।

आंवला का उपयोग

आंवला विटामिन सी से भरपूर होता है जो रक्त के परिसंचरण में सुधार करता है और इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट भी होता है जो आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

गर्म पानी का उपयोग

ज्यादा से ज्यादा गर्म पानी पिएं। आपके गले में जमा कफ खुल जाएगा और आपको सर्दी, जुकाम की तकलीफ से आराम महसूस होगी।

तुलसी का उपयोग

जुकाम के लिए तुलसी का उपयोग बहुत फायदेमंद है, तुलसी के पत्तों को चबाकर खाये या काड़ा बनाकर पीएं।

खजूर का उपयोग

सर्दी जुकाम में खजूर बहुत फायदेमंद होते हैं। खजूर की तासीर गर्म होती है, जो ठंड को काफी हद तक कम कर देती है, इसलिए खजूर को रोजाना एक गिलास दूध में उबालकर सेवन करना चाहिए।

ये घरेलू उपचार आपको राहत दे सकते हैं। सर्दी, खाँसी , जुकाम के विभिन्न लक्षणों से, बिना किसी दुष्प्रभाव के लाभ देंगे । लेकिन अगर आपको लगातार दो सप्ताह से अधिक सर्दी, खाँसी , जुकाम है, तो अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें।

11 Comments

  1. […] संक्रमण और सर्दी जुकाम में प्रतिरक्षा बनाने और वायरस और बैक्टीरिया के हमले से बचाने के लिए उपयोग किया जाता है। (read-सर्दी जुकाम बुखार का घरेलू नुस्खा ) […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.