Home » all posts » ल्यूकोरिया के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज | Leucorrhea symptoms, causes in hindi

ल्यूकोरिया के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज | Leucorrhea symptoms, causes in hindi

ल्यूकोरिया क्या है | What is leucorrhea

लिकोरिया एक महिलाओ में होने वाला रोग है, इस बीमारी से पीड़ित एक महिला की योनि से बड़ी मात्रा में (पानीदार, दूधिया-सफेद, पीला-हरा, खूनी,) बदबूदार पानी निकलता है, जिसे योनि स्राव (vaginal discharge) कहा जाता है। इस समस्या के कारण महिलाओ का शरीर दिनदिन कमजोर होने लगती है।यह एक ग़लत धारणा है कि सभी वाइट डिस्चार्ज (सफ़ेद पानी) किसी बीमारी के कारण होती है

 

सफेद पानी आने का कारण ?

महिलाओं की योनि के आस पास बहुत सारी ग्रंथियाँ होती है। जिसके कारण आपकी योनि के आस पास नमी बनी रहती है। यह ग्रंथियाँ आपको बहुत सारे इंफेक्शन से भी बचाती है। योनि की आस पास वाली जगह में अच्छे बैक्टीरिया होते है जो स्राव (secretion) के साथ इंफेक्शन को भी बाहर निकाल देती है।

पीरियड्स के शुरुआती दिनों में सफ़ेद पानी बिल्कुल नहीं आता है। ओवुलेशन टाइम के नजदीक आते ही और एस्ट्रोजन हॉर्मोन का लेवल हाई होने से सफ़ेद पानी निकलता है। जब दोबारा एस्ट्रोजन हॉर्मोन घटने लगता है और प्रोजेस्ट्रोन बढ़ने लगता है। तो सफ़ेद पानी गाढ़ा होंने लगता है।

ये पता कैसे करेंगे कि असामान्य योनि स्राव (Abnormal White Discharge) है कि नहीं
 
ल्यूकोरिया के लक्षण | Symptoms of leucorrhea in Hindi
  1. योनि स्राव से दुर्गन्ध आने लगती है।
  2. योनि के आस पास खुजली होने लगती है।
  3. पेट के निचले हिस्से में दर्द होने लगता है।
  4. हाथों, पैरों और कमर में दर्द भी होता है।
  5. बुख़ार आता है।
  6. शरीर में कमजोरी, चक्कर आना और थकान
  7. चिड़चिड़ापन, शरीर में सूजन या भारीपन
  8. योनि स्राव का रंग भी बदल जाता है।
असामान्य योनि स्राव (Abnormal White Discharge) होने के क्यों कारण है
  1. हानि कारक बैक्टीरिया के कारण होने वाला इन्फेक्शन
  2. यौन संक्रमित इंफेक्शन रोग जैसे हर्पीस, वार्ट्स ,सिफिल्स आदि से भी हो सकते है।
  3. शारीरिक रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम होना।

ल्यूकोरिया (सफेद पानी ) के लिए घरेलू नुस्खे | Leucorrhoea ke liye gharelu nuskhe

आंवला के सेवन से ल्यूकोरिया का उपचार | Treatment of leucorrhea using amla in Hindi

आंवले को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। इसे पानी के साथ पिएं। नियमित सेवन से ल्यूकोरिया की समस्या जड़ से खत्म हो जाएगी। (read- आंवला के रस के फ़ायदे )

केले के सेवन से ल्यूकोरिया के घरेलू उपचार | Home remedies for leucorrhea using banana in Hindi

हर सुबह एक पका हुआ केला खाएं और बेहतर परिणाम के लिए केले के साथ घी खाएं। केले को चीनी या गुड़ के साथ लेना भी फायदेमंद है। केला योनि से हानिकारक सूक्ष्मजीवों को निकालता है। और कुछ ही दिनों में सफेद पानी की समस्या दूर हो जाती है।

धनिया के बीज से ल्यूकोरिया का उपचार

10 ग्राम धनिया के बीज को 100 मिलीलीटर पानी में रात भर भिगो दें। सुबह खाली पेट इस पानी को छानकर पिएं। धनिया के बीजों का पानी पीने से शरीर से विषैले पदार्थ बाहर निकलकर शरीर को स्‍वस्‍थ रहता है। आप इस नुस्खे को एक हफ्ते तक कर सकते हैं।

अंजीर का सेवन ल्यूकोरिया में लाभकारी है

2-3 सूखे अंजीर रात भर एक कप पानी में भिगो दें। अगली सुबह, अंजीर को पीसकर खाली पेट सेवन करें।

ल्यूकोरिया का घरेलु उपाय त्रिफला चूर्ण

चार चम्मच त्रिफला चूर्ण को लगभग 2-3 गिलास पानी में रात भर भिगोकर रखें। सुबह छानकर इस पानी से योनि को अच्छे धोएं।

अमरूद ल्यूकोरिया को ठीक करने का एक घरेलु उपाय है

अमरूद की 6-7 पत्तियों को आधे घंटे के लिए आधा लीटर पानी में उबालें। ठंडा होने पर छानने के बाद इस पानी से योनि को दो बार धोएं।

 
असामान्य योनि स्राव (Abnormal White Discharge) से बचें कैसे ?
 
  1. आप अपनी पर्सनल हाइजीन को बनाएं रखें।
  2. नीचे पहनने के कपड़े, हमेशा सूती इस्तेमाल करें।
  3. आपको अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना है।
  4. पेशाब करने के बाद भी योनि को पानी से धोना चाहिए।
  5. मासिक धर्म के दौरान साफ ​​और स्टरलाइज़िंग पैड का उपयोग करें।
  6. सेक्स करने के बाद, पेशाब जरूर करें और खुद को साफ रखें।
 
असामान्य योनि स्राव (Abnormal White Discharge) में क्या करें?
अधिक परेशानी होने पर अपने डॉक्टर को जल्दी संपर्क करे। जाँच के बाद डॉक्टर आपका इलाज करेंगे।

👉मूत्र मार्ग संक्रमण (UTI) क्या होता है ?
👉हाइपरथायरायडिज्म में क्या खाएं | Hyperthyroidism Mein Kya Khana Chahiye
👉हीमोग्लोबिन कैसे बढ़ाएं | How To Increase Hemoglobin
 

1 thought on “ल्यूकोरिया के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज | Leucorrhea symptoms, causes in hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *