किडनी की समस्या घरेलू उपचार | Kidney problem home remedies in Hindi

किडनी साफ करने के लिए घरेलू उपचार

बढ़ती उम्र के साथ किडनी के संक्रमण का खतरा भी बढ़ता है। लेकिन आहार में कुछ चीजों को शामिल करके इस जोखिम से बचा जा सकता है।
हम अपने शरीर की बाहरी सफाई का ध्यान रखते हैं, लेकिन हमारे गुर्दे शरीर की आंतरिक सफाई को संभालते हैं। गुर्दे का कार्य पेशाब द्वारा अपशिष्ट उत्पादों को रक्त से बाहर निकालना है।इसके अलावा शरीर में रासायनिक पदार्थों का संतुलन भी रक्त चाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।
गुर्दे की विफलता के कारण रोगी को दर्द महसूस होता है, इसलिए पेट दर्द गुर्दे की बीमारी का कारण हो सकता है।वैसे तो पेट दर्द के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि किडनी इंफेक्शन, किडनी स्टोन, डिहाइड्रेशन आदि। अगर आप पेट दर्द से जूझ रहे हैं तो आपको आयुर्वेदिक उपचार शुरू करना चाहिए, क्योंकि पेट का दर्द आपकी किडनी को खराब कर सकता है।

आप किडनी प्रॉब्लम को इन प्राकृतिक तरीकों से भी कम कर सकते है 

 अधिकतम पानी का सेवन

आपको पता होना चाहिए कि मानव शरीर 70 प्रतिशत पानी होता है। सामान्य व्यक्ति को दिन में कम से कम 7-8 गिलास पानी पीना चाहिए।
आप जितना अधिक पानी पियेंगे, उतने ही विषैले पदार्थ मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकलेंगे।यदि आपके गुर्दे में पथरी है, तो अधिक पानी पीएं, यह पथरी को हटाने में मदद कर सकता है।पानी का सेवन करने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है। (read-Keestone कैप्सूल के फायदे और उपयोग)

सेब का सिरका का सेवन

सेब के सिरके में सिट्रिक एसिड होता है, जो किडनी को साफ करने के लिए सेब का सिरका बेहद फायदेमंद है। इसके उपयोग से गुर्दे की पथरी को जड़ से खत्म किया जा सकता है। सेब का सिरका शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। सेब का सिरका किडनी स्टोन बनने और यूरिन इंफेक्शन होने से रोकता है।आप रोजाना दो चम्मच गर्म पानी के साथ ले सकते हैं। (read-गुर्दे की पथरी के लक्षण, कारण, उपचार)

आंवला का सेवन

आंवला गुर्दे की पथरी को दूर करने में भी मदद करताहै। इसके लिए रोजाना सुबह एक चम्मच आंवला पाउडर या आंवले कारस खाएं। आंवला गुर्दे के संक्रमण को रोकता है। (read-हिमालया सिस्टोन टैबलेट के फायदे और उपयोग)

पत्तागोभी –का सेवन

एक रिसर्च के मुताबिक पत्तागोभी की पत्तियों का सेवन करने से शरीर के टॉक्सिन निकल जाते हैं। आप इसका स्वाद ओर बढाने के लिए इनपत्तियों को उबाल कर प्याज और नमक के  साथ खा सकते हैं।यह आपके पेट दर्द को कम करने में मदद करती है।

डेंडिलियनटी (Dandelion) –का सेवन

डेंडिलियनटी आपके यूरिन की मात्रा को बढ़ाने में मदद करती है, जिससे आपके शरीर में विषैले पदार्थ यूरिन के जरिए शरीर से बाहर निकाल जाते हैं और किडनी की बीमारी और फ्लेंक पेन से भी बचे रहते हैं। साथ ही डेंडिलियन टी पीने से किडनी की कार्य क्षमता में भी सुधार आता है। (read-मूत्र मार्ग संक्रमण | यूरिन इन्फेक्शन )

खीरा का सेवन

खीरा खाने में रोजाना इस्तेमाल करने से अपेंडिसाइटिस (appendicitis) की समस्या से बचा जा सकता है। यह पित्त पथरी और गुर्दे की पथरी से बचाता है। खीरे का रस दिन में 2-3 बार पीने से लाभ होता है।

👉 गुर्दे की पथरी के लिए कीस्टोन आयुर्वेदिक चिकित्सा 
👉 बवासीर की सबसे अच्छी यूनानी दवाइयें