हीमोग्लोबिन कैसे बढ़ाएं | How to increase hemoglobin in Hindi

हीमोग्लोबिन क्या है | What is hemoglobin in Hindi

हीमोग्लोबिन एक प्रोटीन है जो लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है। हीमोग्लोबिन आपके फेफड़ों से आपके शरीर के बाकी हिस्सों में ऑक्सीजन ले जाता है। यह आपके ऊतकों से कार्बन डाइऑक्साइड को वापस आपके फेफड़ों में भी लौटाता है। फेफड़ों से कार्बन डाइऑक्साइड (Co2) शरीर से वापस बाहर निकल जाता है। हीमोग्लोबिन में मौजूद आयरन लाल रक्त कोशिकाओं की सामान्य उपस्थिति को बनाए रखने में मदद करता है।

कम हीमोग्लोबिन का मतलब आपको एनीमिया है। शरीर में आयरन-फोलिक एसिड और विटामिन बी की कमी के कारण हीमोग्लोबिन का स्तर घटता है। हीमोग्लोबिन की कमी से थकान और कमजोरी होती है।

हीमोग्लोबिन के लिए सामान्य सीमा है | Hemoglobin levels in Hindi

पुरुषों के लिए  = 13  से 17 (gm/dl) ग्राम प्रति डेसीलीटर

महिलाओं के लिए = 11 से 15 (gm/dl) ग्राम प्रति डेसीलीटर

इस लेख में जानें कि प्राकृतिक रूपसे हीमोग्लोबिन के स्तर को कैसे बढ़ाया जाए।

👉हीमोग्लोबिन टेस्ट कैसे कब और क्यों किया जाता है

 

हीमोग्लोबिन कैसे बढ़ाएं | How to increase hemoglobin in hindi

एक व्यक्ति घर पर हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ा सकता है:

आयरन का सेवन बढ़ाना | Increase iron intake

हीमोग्लोबिन के कम स्तर वाले व्यक्ति को अधिक आयरन युक्त खाद्य पदार्थ खाने से लाभ होता  है। आयरन हीमोग्लोबिन के उत्पादन को बढ़ावा देने का काम करता है, जो अधिक लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में भी मदद करता है।

·         आयरन के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं

·         मांस और मछली

·         अंडे

·         चुकंदर

·         अनार

·         सूखी किशमिश

·         सूखे मेवे, जैसे खजूर और अंजीर

·         Broccoli

·         हरी पत्तेदार सब्जियाँ, जैसे पालक

·         हरी सेम

·         दाने और बीन्स

·         मूंगफली

फोलेट का सेवन बढ़ाना | Increase intake of folate

फोलेट (फोलिक एसिड को विटामिन बी-9 या फोलासीन और फोलेट के नाम से भी जाना जाता है) विटामिन बी का एक प्रकार है जो हीमोग्लोबिन उत्पादन में एक आवश्यक भूमिका निभाता है। शरीर हीमोग्लोबिन के एक घटक हेम (heme) का उत्पादन करने के लिए फोलेट का उपयोग करता है जो ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है।

यदि किसी व्यक्ति को पर्याप्त फोलेट नहीं मिलता है तो उसकी लाल रक्त कोशिकाएं परिपक्व (mature) नहीं हो पाएंगी, जिससे फोलेट की कमी से एनीमिया और हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो सकता है।

फोलेट के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:

 

·         मांस

·         पालक

·         चावल

·         साबुत अनाज

·         मूंगफली

·         सलाद

·         मेथी,

·         फलियां,

·         मटर,

·         खट्टे-मीठे फल जैसे खरबूजा, संतरा, केले, नींबू, स्ट्राबेरीज और अंगूर

विटामिन C | vitamin C

शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए, सिर्फ आयरन लेना पर्याप्त नहीं है। बल्कि, आपको अपने आहार में विटामिन सी से भरपूर चीजों को शामिल करने की कोशिश करनी चाहिए। दरअसल, विटामिन सी शरीर में आयरन के अवशोषण (absorption) में मदद करता है। इसलिए, यदि आप विटामिन सी युक्त आहार लेते हैं, तो शरीर में आयरन का अवशोषण (absorption) भी बेहतर तरीके से होता है।

विटामिन सी के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं

खट्टे रसदार फल जैसे

·         आंवला,

·         नारंगी,

·         नींबू,

·         संतरा,

·         अंगूर,

·         टमाटर, 

·         अमरूद,

·         स्ट्रॉबेरी

विटामिन ए और बीटा-कैरोटीन लोहे को अवशोषित करने और उपयोग करने में शरीर की सहायता कर सकते हैं।

विटामिन ए से भरपूर खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:

·         मछली

·         जिगर (liver)

·         मीठे आलू

·         पीली या नारंगी सब्जियां

·         अंडा

·         दूध,दही

·         हरी सब्जियां

बीटा-कैरोटीन से भरपूर खाद्य पदार्थों में पीले, लाल और नारंगी फल और सब्जियां शामिल हैं, जैसे:

·         गाजर

·         मीठे आलू

·         आम

सब्जियों कासेवन

आपको अपने आहार में पालक, मेथी, मटर, पुदीना, टमाटर, धनिया, बथुआ, और सरसों को शामिल करना चाहिए। यह विटामिन C और आयरन की कमी को दूर करता है।

खजूर का इस्तेमाल

खजूर में भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है। ऐसी स्थिति में यह एनीमिया के इलाज के लिए रामबाण है। लगातार खजूर का सेवन करने से शरीर में आयरन की कमी दूर होती है।

सेब | Apple

एक सेब रोज खाने से हीमोग्लोबिन का स्तर सामान्य होता है। सेब में आयरन और अन्य पोषक तत्व होते हैं जो रक्त में हीमोग्लोबिन के स्तर को सामान्य करने के लिए आवश्यक होते हैं।

हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ाने के लिए कुछ टिप्स

·         आयरन और विटामिन सी और बी 12 के खाद्य पदार्थ खाएं।

·         भोजन हमेशा लोहे के बर्तन में करें।

·         प्रतिदिन सुबह कम से कम 10 मिनट सूरज के सामने खड़े रहे।

·         अपने आहार में दाल और साबुत अनाज को शामिल करें।

·         अपने आहार में अधिक से अधिक ताजे फल और सब्जियां शामिल करें।

·         नियमित रूप से व्यायाम या योग करें।

👉किडनी की बीमारी के लक्षण

👉थायरॉयड समस्याएं | Thyroid Problems In Hindi

👉अश्वगंधा के 10 स्वास्थ्य लाभ | 10 Health Benefits Of Ashwagandha