Home » all posts » ब्लड प्रेशर क्या है | overview blood pressure hypertension and hypotension risk symptoms treatment in hindi

ब्लड प्रेशर क्या है | overview blood pressure hypertension and hypotension risk symptoms treatment in hindi

ब्लड प्रेशर क्या है | What is blood pressure in Hindi?

हमारा दिल एक मिनट के अंदर ब्लड को 60 से 80 बार पम्प करता है अगर आप runing या exercise कर रहे हो उस टाइम हमारा दिल 80 से 100 बार तक पम्प करता है। उसी प्रेशर से ब्लड पूरी बॉडी में blood circulat होता है ,इस प्रेशर के कारण हमारी धमनियों (arteries) की दीवार पर एक बल लगता है, जिससे हम ब्लड प्रेशर कहते है।

ब्लडप्रेशर सिस्टोलिक और डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर में मापा जाता है।

सिस्टोलिक दबाववह दबाव जब आपका दिल रक्त को बाहर धकेलता है।

डायस्टोलिक दबाव2 धड़कनों के बीच धमनियों (arteries) में दबाव

उदाहरण के लिए, यदि आपका रक्तचाप “140 से अधिक 90″ या140 / 90mmHg है, तो इसका मतलब है। कि आपके पास 140 mmHg का सिस्टोलिक दबाव और 90 mmHg का डायस्टोलिक दबाव है।

 

आदर्श रक्तचाप (Normal blood pressure ) 90 / 60 mmHg और120 / 80 mmHg के बीच माना जाता है।

उच्चरक्तचाप (High blood pressure) को 140 / 90 mmHg या इससे अधिक माना जाता है मेडिकल की भाषा में इसे हाइपरटेंशन (Hypertension) कहते हैं।

निम्न रक्तचाप (Low blood pressure) 90 / 60 mmHg या इससे कम माना जाता है। मेडिकल की भाषा में इसे हाइपोटेंशन (Hypotension) कहते हैं।

उच्च रक्तचाप | High blood pressure in Hindi

ब्लड प्रेशर का कम होना या ज्यादा होना शरीर के लिए दोनों ही हानिकारक साबित हो सकता है।और इन दिनों कई लोगों में यह दिक्कत होती है। मेडिकल की भाषा में हाई ब्लड प्रेशर को हाइपरटेंशन कहते हैं। और यह साइलेंटकिलर के नाम से जाना जाता है। कई लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की दिक्कत होती है। और उन्हें पता भी नहीं चलता है। इसलिए आज हम आपको बता रहे हैं। कि ज्यादा ब्लडप्रेशर क्या होता है। और इसका पता कैसे किया जाता है और इसका क्या इलाज होता है।

उच्च रक्तचाप (High blood pressure) अक्सर हमारे ख़राब जीवन शैली को दर्शाता है, जैसे सोडियम की मात्रा अधिक होने से, धूम्रपान, बहुत अधिक शराब पीना, अधिक वजन होना और पर्याप्त व्यायाम करना। लगातार उच्च रक्तचाप हमारे शरीर को कई तरह के नुकसान पहुंचा सकता है। जैसे ​​कि दिल कालक़वा (heart failure), गुर्दे की बीमारी भी हो सकती है।

सामान्य रक्तचाप (Normal blood pressure): 120/80 मिमी एचजी या थोड़ा कम के रक्तचाप को सामान्य रक्तचाप ही माना जाता है

एलिवेटेड ब्लड प्रेशर (Elevated blood pressure): 120/80 मिमी एचजी से ऊपर के रक्तचाप का मान ऊंचा माना जाता है। हालांकि, इसके लिए किसी दवा की आवश्यकता नहीं होती है। और इसे कुछ जीवन शैली में बदलाव के साथ नियंत्रित किया जा सकता है।

उच्च रक्तचाप का चरण 1 (Stage 1 of hypertension): इस स्थिति में, सिस्टोलिक रक्तचाप का मूल्य 130-140 mm Hg के बीच होता है, जबकि डायस्टोलिक दबाव 80 से 90 mm Hg के बीच होता है।

उच्च रक्तचाप का चरण 2 (Stage 2 of hypertension): इस स्थिति में, सिस्टोलिक मूल्य 140 mm Hg से अधिक है, जबकि डायस्टोलिक मूल्य 90 mm Hg से अधिक है।

क्रिटिकल हाई ब्लड प्रेशर (Critical high blood pressure): यहां, सिस्टोलिक रक्तचाप 180 mm Hg से ऊपर है, जबकि डायस्टोलिक मूल्य 120 mm Hg से अधिक है। इस स्थिति में तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता होती है और उच्च रक्तचाप के कुछ लक्षणों को प्रदर्शित करता है।

उच्च रक्तचाप को एक ‘साइलेंट किलर’ के रूप में जाना जाता है क्योंकि ज्यादातर लोगों को किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं होता है जब तक कि उन्हें दिल का दौरा या स्ट्रोक जैसी गंभीर समस्या न हो।  कुछ लोगों में निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं:

  • सिर चकराना,
  • सांस लेने में कठिनाई
  • सिर दर्द
  • त्वचा का फूलना
  • नाक से खून बहना
  • मूत्र में रक्त की उपस्थिति
  • छाती में दर्द

उच्च रक्तचाप के कारण आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होते हैं, इसलिए उच्च रक्तचाप और इसकी जटिलताओं से बचने के लिए, आपके लिए नियमित रूप से रक्तचाप की जांच करना महत्वपूर्ण है। यदि आप इसे हल्के में लेते हैं, तो यह दिल का दौरा, स्ट्रोक, दिल की विफलता या अंधापन जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है। इससे मौत भी हो सकती है। तो आपको नियमित रूप से अपने रक्तचाप की निगरानी करने की आवश्यकता है।

Check out this – Omron HEM 7120 Fully Automatic Digital Blood Pressure Monitor With Intellisense Technology For Most Accurate Measurement

उच्च रक्तचाप के लिए आपको अपने आहार और लाइफस्‍टाइल में कुछ बदलाव करने की जरूरत होगी । साथ ही डॉक्टर से सलाह लें। आप थोड़ा ध्यान रखकर इस परेशानी से बच सकते हैं। हाई बीपी से बचने के लिए हमेशा मुस्कुराएं और तनाव से बचें।

आइए हम आपके उच्च रक्तचाप को कम करने के 10 प्राकृतिक तरीकों जाने :-

1.    स्वस्थ आहार लें | Have a healthy diet –

      निम्न रक्तचाप के लिए आहार महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। रोजाना आहार में फल, साबुत अनाज, कम वसा वाले डेयरी उत्पादों और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन बढ़ाएँ , हरी सब्जियां पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं, जो आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, processed foods से दूर रहें जो saturated fat से बने हैं।

2.    नमक कम करें और आहार में पोटेशियम बढ़ाएं | Reduce Salt and increase potassium in the diet

     नमक समस्या नहीं है, लेकिन इसका रासायनिक घटक, सोडियम, रक्तचाप वाले लोगों के लिए परेशानी का कारण बनता है।शोधकर्ताओं का कहना है कि जो लोग कम नमक खाते हैं उनका रक्तचाप उन लोगों की तुलना में कम होता है जो अधिक नमक खाते हैं। कोशिकाओं में सोडियम की अधिक मात्रा को संतुलित करने के लिए पोटेशियम की आवश्यकता होती है। इसलिए, यह आपके शरीर में सोडियम प्रतिधारण (retention) को रोकता है। इसलिए, यदि आप सोडियम से समृद्ध आहार खाते हैं, लेकिन आहार में पोटेशियम की कम मात्रा  होने से आपको उच्च रक्तचाप का खतरा हो सकता है। आप आलू / शकरकंद, मटर, केला, पका हुआ पालक, ब्रोकोली आदि खाद्य पदार्थ खाकर पोटैशियम प्राप्त कर सकते हैं।

3.   व्यायाम | Exercise

     व्यायाम की कमी, साथ ही एक गतिहीन जीवन शैली भी उच्च रक्तचाप के जोखिम को बढ़ाती है।खासकर रक्तचाप वाले लोगों के लिए! दिल मांसपेशियों से बना है और नियमित व्यायाम से मांसपेशियों को मजबूत किया जा सकता है,

4.    सेलेरी | Celery

     अध्ययनों से पता चला है कि आपके आहार में सेलेरी का सेवन आपकी मदद कर सकता है, खासकर यदि आप उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं। अजवाइन में 20 से अधिक अलग-अलग रसायन मौजूद होते हैं, जिसमें एपिगेनिन नामक एक यौगिक भी शामिल है। यह एक प्राकृतिक विरोधी भड़काऊ (anti-inflammatory) और एंटीऑक्सिडेंट यौगिक है जो रक्तचाप से संबंधित बीमारियों को कम करता है

 

5.    गुड़हल का फूल | Hibiscus

      गुडहल की चाय या अन्य गुडहल की खुराक स्वाभाविक रूप से रक्तचाप को कम करने के लिए जानी जाती है। गुडहल में मूत्रवर्धक (diuretic) गुण होते हैं, जो शरीर से अतिरिक्त सोडियम को बाहर निकालने और हृदय पर दबाव को कम करने में मदद करते हैं।

 

6.    सुबह तरबूज खाएं | Eat watermelon in the morning – 

     गर्मियों के फल, तरबूज, में सेर्टालाइन (sertraline) के रूप में जाना जाने वाला एक रसायन होता है,  सेवन से हमारी रक्तवाहिनी का आकर बढ़ाने में मदद करता है जिसके कारण ह्रदय पर दबाब कम पड़ता है।

 

7.    कैफीन का सेवन कम करें और धूम्रपान छोड़ दें | Reduce caffeine intake and quit smoking

     अध्ययन से पता चलता है कि निकोटीन और कैफीन सेवन के कुछ ही मिनटों में शरीर के रक्तचाप को तुरंत बढ़ा देते हैं। तो, इन रसायनों में कमी आपके उच्च रक्तचाप को कम करेगी और आपके दिल को लंबे समय तक मजबूत और कार्यशील बनाए रखेगी !

8.    इलायची | Cardamom –

      इलायची एक मसाला है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह मसाला रक्त में मुक्त प्रतिक्रियाशील (reactive) कणों को कम करता है, जिससे हृदय पर दबाव कम हो जाता है। इलायची को रोजाना आहार में शामिल करें चाय बनाकर या सूप या पके हुए खाद्य पदार्थों पर छिड़क कर।

 

9.    दालचीनी का सेवन |  Intake of cinnamon

     आपने कई बार दालचीनी का इस्तेमाल किया होगा, घर के मसालों की रानी। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह आपकी हर बीमारी का इलाज करने में सक्षम है। इसका रोजाना सेवन करने से आपके शरीर में मैग्नीशियम की कमी नहीं रहती। यहाँ आपके शरीर में उच्च रक्तचाप को कम करने का काम करता है। उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों के लिए यह विशेष रूप से फायदेमंद है।

 

10.   ब्लड प्रेशर कम करने के लिए तनाव कम करें – Reduce stress to reduce blood pressure –

     उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए तनाव से दूर रहना बहुत जरुरी है। तनाव और दुख हृदय रोग की समस्या को बढ़ा सकते हैं। इसलिए तनावपूर्ण परिस्थितियों से बचने और खुद को खुश रखने की कोशिश करें। इसके लिए आप संगीत सुन सकते हैं, योग कर सकते हैं या कुछ और जो आपको खुश कर दे।

 

निम्न रक्तचाप | Low blood pressure in Hindi

निम्न रक्तचाप अपने आप में गंभीर स्थिति नहीं है। अक्सर यह एक स्वास्थ्य समस्या का लक्षण हो सकता है। कुछ दवाएं साइड इफेक्ट के रूप में निम्न रक्तचाप का कारण बन सकती हैं। यह हृदय की विफलता और शरीर में पानी की कमी (dehydration) भी हो सकता है।

अगर आपको इसके लक्षण मिलते रहें तो अपना blood pressure की जाँच करे :

  • चक्कर आना
  • बीमार महसूस करना
  • धुंधली दृष्टि
  • आम तौर पर कमजोर महसूस होना
  • भ्रम की स्थिति (Confusion)
  • बेहोशी

इसका मतलब यह हो सकता है कि आपका रक्तचाप बहुत कम है।

यदि आपको खड़े होने या अचानक स्थिति बदलने पर लक्षण मिलते हैं, तो आपको हाइपोटेंशन हो सकता है।

👉शरीर में खून की कमी एनीमिया क्या है | What Is Anemia

👉पालक खाने के फायदे और नुकसान | Health Benefits Of Spinach

👉डिप्रेशन क्या है | Depression Kaise Thik Hota Hai | Depression In Hindi

4 thoughts on “ब्लड प्रेशर क्या है | overview blood pressure hypertension and hypotension risk symptoms treatment in hindi”

  1. Pingback: शुगर की बीमारी से कैसे छुटकारा पाएं |How to get rid of sugar disease - DesiGyan

  2. Pingback: ओट्स (जई) के फायदे | Benefits of oats in hindi - DesiGyan

  3. Pingback: दिल का दौरा, लक्षण, कारण, बचाव | Heart Attack in Hindi - DesiGyan

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *